HindiAnuvad.netne.net                                                                                                                                                                                         हमारी इस वेबसाइट में सबसे अच्छे अंग्रेजी लेखों का हिन्दी अनुवाद शामिल है.Free Domain

पढ़ाई करने के रहस्य

padhai-karne-ke rahasya-hindi

अधिकांश छात्रों को ये लगता है कि यह बस समय की बर्बादी है या वे योजना बनाने के बारे में नही जानते. उन्हें लगता है कि तुरंत अध्ययन शुरू करने से समय की बचत हो जायेगी. वैसे, यह भी सच है अगर आप अपनी परीक्षा के एक दिन पहले अध्ययन कर रहे हो. लेकिन सच्चाई यह है कि योजना बनाने से आपका आगे का अध्ययन आसान हो जाता है और[...] आगे पढ़े »

फिल्मों की दुनिया

agneepath ki story

फिल्म शुरु होती है मांडवा इस समुंदर किनारे बसे एक छोटेसे गांव में. जहाँ विजय दिनानाथ चौहान( ऋतिक रोशन)को उसके आदर्शवादी पिता, जो की एक स्कुल टिचर है. एक अग्नी का सच्चा मार्ग सिखाते है- अग्निपथ. उसकी जिंदगी बिलकुल ही टुकडे-टुकडे हो जाती है जब अवैध नशीले पदार्थों का एक व्यापारी कांचा(संजय दत्त) उसके पिता को एक बरगद के पेड पर फांसी पर लटकाता है. फिर विजय मांडवा छोडकर मुंबई आता है, उसकी गर्भवती मां के साथ. विजय की जिंदगी का सिर्फ[...] आगे पढ़े »

लडकि कैसे पटाये?

ladki-kaise-pataye-hindi

लडकियाँ ऊनकी भावनाऐं और फिलिंगृस को लडकों से ज्यादा महत्व देती है. लेकिन वे ऊनकी भावनाऐं छुपाकर रखती है. वो जो कुछ दिखाती है या बोलती है ऊससे ज्यादा ऊसके दिमाग में kya चल रहा है ये जानने की कोशिश करो. लगातार ऊसके संपर्क में रहने से आप ऊनके दिमाग को पढ़ सकते है. फिर आपको ऊसे आकर्षित करने में और पटा [...] आगे पढ़े »

भारतीय लडकि कैसे पटाओगे?

bharatiya-ladki-kaise-pataye(Hindi)

अगर आपको एक भारतीय लडकि को पटाना है ,तो पहले आपको उसे अच्छी तरह से जानना पडेगा. ज्यादातर भारतीय लडकिया ये समझती है कि भगवान ने ऊनके लिये पहले से हि कोई बनाकार रखा है और उसके परिवार वाले उसके लिये उसका Dream Man ढ़ुंडके लायेंगे. वे हर लडके में ऊनके Dream Man के गुण ढ़ंडती रहती है. इसलिये आप जब भी उनसे पुछोगे कि उनको कैसा लडका चाहिये तो ऊन [...] आगे पढ़े »

जीवन-चरित्र

Hritik-Roshan-Biography-jeevan-cahritra(Hindi)

ऋतिक ने अपनी पहली फिल्म कि जब वो ६ साल के थे "आशा(१९८०)". इस फिल्म में इन्होने एक गाणे में बाल नर्तक का रोल किया है. उसके बाद इन्होने फिल्म "आपके दिवाने (१९८०)" और "भगवान दादा (१९८६)" में छोटे छोटे किरदार निभाये है. इन दोनो फिल्मों के मुख्य अभिनेता उनके पिता राकेश रोशन है. इन्होनें फिल्म "करण अर्जुन(१९९५)" और "कोयला(१९९७)" के लिये सहाय्य [...] आगे पढ़े »

लडकियों से बात कैसे करोगे?

Ladkiyon-se-baat-kaise-kare(Hindi)

ये तो सबको पता है कि लडकियों को बाते करना बहुत अच्छा लगता है. वे जब ग्रुप में होती है तब दोस्तों के साथ बाते करती है और अके ली होती है तब फोन पर बाते करती है. तो दोस्तों अगर आप ज्यादा बात नहीं करते तो आपको खुदको बदलना पडेगा क्योंकि जितनी देर आप लडकियोंसे बात करेंगे उतनी जल्दी आप उन्हे पटा सकेंगे. अगर आप[...] आगे पढ़े »